Parts of a Sentence in English Grammer for Students

PARTS OF A SENTENCE ( वाक्य के भाग )

केवल शब्दों का ज्ञान रखकर आप किसी भाषा को नहीं सीख सकते हैं । अपने विचारों को दूसरे के समक्ष रखने के लिए तथा दूसरों के विचारों को समझने के लिए आपको वाक्यों का प्रयोग करना जरूरी है । इसलिए वाक्य रचना का ज्ञान होना बहुत आवश्यक है ।

A Sentence is a group of words which makes a complete sense. एक वाक्य शब्दों का वह समूह है जो एक पूर्ण अर्थ बनाता है। 
The please shut door.

Good boy a is Shivanshu.
उपरोक्त वाक्य group of words sentence नहीं कहे जा सकते ; क्योंकि ये Difinite Order में Arrange नहीं किए गए हैं  और ना ही इनका कोई सार्थक मतलब निकलता है। आईये अब ऊपर दिए गये group of words को Arrange कर देखें :

Please shut the door.        –     कृपया दरवाजा बंद करें।
Shivanshu is a good boy. –     शिवांशु एक अच्छा लड़का है।
ऊपरोक्त Group of words Sentence कहे जायेंगे; क्योंकि इन्हें  Definite order में Arrange किया गया है और इनसे पूर्ण और सार्थक अर्थ की अभिवयक्ति होती है।

जो शब्द वाक्य बनाते हैं, उन्हें Parts of Speech कहा जाता है। ये आठ प्रकार के होते हैं। वाक्य रचना का क्रम हिंदी और अंग्रेजी में अलग – अलग होता है।

Parts of a Sentence

Parts of a Sentence (वाक्य के भाग) – वाक्य के दो भाग होते हैं – 
1. Subject – वाक्य का वह भाग, जिसमे  किसी  व्यक्ति या वस्तु  का  नाम  (जिसके बारे में बात के जा रही हो) आता  है, Subject कहलाता है।  
(The person or thing about which something is said, is called the subject.) ex. – Shivanshu is a good boy.
 
यहाँ शिवांशु के बारे में कहा गया है कि शिवांशु कैसा लड़का है। अतः शिवांशु  Subject  हुआ।

2. Predicate – जो कुछ Subject के बारे में कहा जाता है, वह पूरा भाग Predicate कहा जाता है, वह पूरा भाग Predicate कहलाता है।
Whatever is said about the subject is called the Predicate. जैसा कि दिए गये वाक्य में शिवांशु के बारे में बताया गया है कि शिवांशु अच्छा लड़का है (is a good boy) यह Predicate है।

SOCIAL MEDIA LINKS

Also Read – 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

DMCA.com Protection Status